Loyola College यौन उत्पीड़न मामले मे महिला शिक्षक को देगा 64.30 लाख रूपये का मुआवजा

90
Loyola College को यौन उत्पीड़न मामले शिक्षक को देगा 64.30 लाख रूपये का मुआवजा
Loyola College

तमिलनाडु राज्य महिला आयोग (Tamil Nadu State Commission for Women) ने दिया आदेश।

यौन उत्पीड़न मामले लोयोला कॉलेज (Loyola College) के पूर्व कर्मचारी को ब्याज के साथ देनी  होगी राशि।

चेन्नई: तमिलनाडु राज्य महिला आयोग (Tamil Nadu State Commission for Women) ने एक यौन उत्पीड़न मामले में पूर्व शिक्षक को 64.3 लाख रुपये का मुआवजा (ब्याज के साथ) तुरंत देने का आदेश लोयोला कॉलेज दिया गया है.

IDBI Bank SO Recruitment 2020: 134 रिक्तियों के लिए बिना लिखित परीक्षा सीधी 

22 दिसंबर को आयोग ने कॉलेज के पूर्व कर्मचारी मैरी राजशेखरन को “तत्काल प्रभाव से” मुआवजा देने का आदेश दिया। आदेश मे कहा गया कि आयोग ने कहा कि यह एक अंतिम निर्णय है। और कॉलेज प्रबंधन को तुरंत इस निर्णय का पालन करना होगा।

आदेश को लेकर स्वामीनाथन बताया कि हम आयोग के आदेश को देखकर हैरान हैं। हम इस आदेश के बारे में राज्य उच्च न्यायालय को सूचित करेंगे जब यह क्रिसमस की छुट्टी के बाद राज्य उच्च न्यायालय फिर से खुलेगा तो हम इस आदेश के बारे में राज्य उच्च न्यायालय को सूचित करेंगे।

आप की जानकारी के लिए बता दे की सितंबर 2014 मेंं चेन्नई के लोयोला कॉलेज की एक महिला शिक्षक ने कॉलेज के ही एक पूर्व अधिकारी पर अधिकारी पर भ्रष्टाचार और यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे। जिसके कारण महिला शिक्षक की कॉलेज प्रशासन के द्वारा  सेवा समाप्त कर दी गई थी।

तमिलनाडु  राज्य महिला आयोग ने जांच रिपोर्ट मे पाया कि पीड़ित का रिकॉर्ड बहुत अच्छा रहा है और उसकी सेवा समाप्त करने का कोई कारण नहीं था. आयोग ने उल्लेख किया है कि लोयोला कॉलेज (Loyola College) ने जानबूझकर उसे नौकरी से हटाया गया है। आयोग  ने 81 महीने की सैलरी के अलावा मानसिक पीड़ा से हुए नुकसान, यौन उत्पीड़न और पीड़ित के खिलाफ झूठी शिकायत दर्ज करने को लेकर मुआवजा देने का आदेश दिया है। लोयोला कॉलेज के वकील ने ज़ी मीडिया को बताया कि उन्हें ऑर्डर कॉपी नहीं मिली है। आगे हम इस फैसले को चुनोती देंगे।

टीएन राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ। कनेगी पैकियाथन, आईएएस (आर) ने

कहा है कि “हम एक स्वतंत्र निकाय हैं और जांच के अधिकार हैं। यह मुद्दा हमारे सामने पीड़ित (एक वरिष्ठ नागरिक) द्वारा लाया गया था, जो कई वर्षों से नौकरी और आय के बिना था।